Shunyapragya
No One But Love Reduced Size

No One, But Love

कुछ नहीं, सिवा मुहब्बत के

 

ना जुस्तजू है किसीकी  /

ना जज़्बा है कायम  //

ना यारी है किसिसे  /

ना कैलोकाल का आलम  //

ना सरूर मय है ये  /

ना शिकवा खुमार से  //

ना चलते हैं कहींको  /

और ना पासबाँ कायम  //

ना मौजों में हूँ ठहरा  /

ना साहिल में हूँ हरकत  //

ना शहरों में हूँ सावन  /

ना वीरानों में पतझड़  //

ना कब्रे हयात में  /

ना मौजों की रात में  //

आशिक़ फ़िगार हूँ  /

अल्लाह तोफीक से  //

No One, But Love

 

No one I desire,

No one I am attached with.

No one is my friend,

No one is my enemy.

I am never a drunkard,

But, I am intoxicated.

Nowhere I go,

And never I stop

I am not stationary, in moving world,

Never I move in a stationary world.

I am not in celebrations,

Never I feel sad, in loneliness.

I am not dead either,

Never live as astray beings.

By grace of Almighty,

I am attained to love.

Shunyapragya

Add comment